Sanitation Staff Honored by Mashaal

11 Oct 2020
India
मशाल

दिल्ली में कोरोना संक्रमण काल में सेवारत रहे सफाई कर्मचारियों के सम्मान के लिए मशाल संस्था की ओर से सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। दिल्ली के आर्य समाज, मल्कागंज में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में एमडीएच समूह के चेयरमैन पद्मभूषण महाशय धर्मपाल जी सम्मलित हुए। सम्मान समारोह की शुरुआत पद्मभूषण महाशय धर्मपाल जी द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से हुई।  पद्मभूषण महाशय धर्मपाल जी के द्वारा सफाई कर्मचारियों को स्मृति चिन्ह, उपहार एवं प्रशस्ति देकर ने सम्मानित किया। महाशय जी ने अश्रुपरित हो, भावभरे शब्दों में लिखकर कहा-जिस प्रकार मां अपने बच्चों को साफ सुथरा रखती है, उसी भांति सफाई अधिकारियों, युवा कर्मियों ने महामारी के दौरान जो सेवाएं दी हैं, उन्हें भुलाया नहीं जा सकता। कुछ समर्पित कोरोना वायरस योद्धा मानवता की राह में परमात्मा को प्यारे हो गए, अपने अतुलनीय त्याग के लिए, वे अमर रहेंगे। उनके परिवारों की सुरक्षा का दायित्व समाज व राष्ट्र का है। दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा के महामंत्री विनय आर्य ने कहा-महाशय धर्मपाल का कर्मयोगी जीवन मानवता की धरोहर है। जिन्होंने कड़ी मेहनत, साधना से तांगा, चक्की चलाना, पिता जी के साथ दुकानदारी करने के कार्यों में कोई संकोच नहीं किया। 97 वर्षीय अवस्था में आज भी वे योग, साधना, प्राणायाम, डम्बल व्यायाम नियमित सुबह-शाम सैर करने के साथ सादा जीवन-उच्च विचारपि के सिद्धान्तों पर चल रहे हैं। उनकी हार्दिक इच्छा है कि हमारे आर्थिक, सामाजिक रूप से पिछड़े सफाई कर्मचारियों के बच्चों को आई.ए.एस, आईपी.एम, आई.एफ.एस की उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित किया जाये। इसी निमित महाशय धर्मपाल प्रतिभा विकास संस्थान का गठन किया गया है, जहां मेधावी छात्र-छात्राओं को मौखिक, लिखित परीक्षा तथा साक्षात्कार के माध्यम से देश के महत्वपूर्ण पदों पर चयनित करने में सहयोग किया जा रहा है। भविष्य में कमजोर वर्ग के बच्चों को स्कूल, कॉलेज स्तर में सर्वोच्च अंक पाने पर शिक्षा, रहन-सहन, छात्रावृति देकर भी प्रतिभा-प्रोत्साहन की नई योजना भी शीघ्र क्रियान्वित होगी। इस अवसर पर दिल्ली सफाई आयोग के चेयरमैन संजय गहलोत ने कहा-आर्य समाज ने युद्धस्तर पर कार्यरत रहे सफाई कर्मियों को पुरस्कृत करने का जो रचनात्मक अभियान चलाया है, निश्चित ही उससे समाज को नई दिशा मिलेगी, महाशय जी वास्तव में हमारे मसीहा हैं, जो स्वयं तो धार्मिक शिक्षाओं पर चलते हैं, साथ ही सभी वर्गों के कल्याण के लिए समर्पित हैं, उनके वेदानुकूल कार्यों, आचरण से हमें साक्षात भगवान के आज दर्शन हुए हैं, उनका आशीर्वाद मिला। ऐसे महामानव की शताधिक आयु हो ऐसी हमारी मंगल कामना है। ऐसे युगपुरुष का 100वां जन्मोत्सव हम गौरवपूर्ण ऐतिहासिक कार्यक्रम  ताल कटोरा इन्डोर स्टेडियम में अपने समाज की ओर से मनायेंगे। इस अवसर पर उन्होंने महाशय जी को महर्षि वाल्मीकि का वृहद चित्र तथा शाल ओढ़ाकर उनका हार्दिक अभिनन्दन किया। हीं युवा भजनोपदेशक कुलदीप आर्य ने देशभक्ति गीतों से महान वीर सुभाष चन्द्र बोस की यशगाथाएं सुनाई। आर्य  समाज मल्कागंज के धर्माचार्य यशदेव विद्यालंकार के वक्तव्य में कहा कि महर्षि मनु की वर्ण व्यवस्था गुण कर्म, स्वभाव पर आधारित है। समाज सुधारक महर्षि दयानंद सरस्वती ने सर्वप्रथम दलितोद्धार का अभियान चलाया और उनके मानस पुत्र स्वामी श्रद्धानंद जी ने सम्पूर्ण जीवन दलितोद्वार में लगा दिया और अपने प्राणों का बलिदान दिया। महर्षि दयानंद के अनेकों अनुयायियों ने दलित उद्धार के लिए विशेष कार्य किए।  कार्यक्रम में आए सैकड़ों कार्यकर्ताओं को उत्साहित करते हुए कि यदि आप भी उच्च शिक्षा पाते तो आप भी आत्मोत्थान से राष्ट्र उत्थान कर सकते है। कार्यक्रम में पधारे वाल्मीकि समाज के वरिष्ठ समाजसेवी, प्रधान दुनी सिहं सहित, सफाई अधिकारियों, कर्मियों और मशाल कार्यकर्त्ताओं को पुरस्कृत किया गया। मशाल टीम द्वारा नशाबंदी आंदोलन पर डॉक्यूमेंट्री दिखाकर सबको जागरुक किया गया। भारत बलराम शर्मा ने कार्यक्रम का कुशल संचालन किया। सेवा सम्मान कार्यक्रम को सफल बनाने में आर्यसमाज के प्रधान सुभाष कोहली, मंत्री अश्विनी कुमार, कोषाध्यक्ष बृहस्पति आर्य, मशाल संस्था से विकास आर्य, अग्नि भारद्वाज एवं अन्य कार्यकर्ताओं का अहम योगदान रहा।

 

Birthday Celebrations of Arya Missionary Govind Ram Swami

Yajurvded Parayan Mahayajya