Meeting of Bihar workers

Meeting of Workers of Bihar organized by Bihar Rajya Arya Pratinidhi Sabha

अन्तर्राष्ट्रीय आर्य महासम्मेलन-2018 को सफल बनाने के संकल्प के साथ एक दिवसीय ‘आर्य महासम्मेलन’ दिनांक 12 अगस्त 2018 को बिहार राज्य आर्य प्रतिनिधि सभा की ओर से सभा प्रांगण में पूरी भव्यता से सम्पन्न हुआ। महासम्मेलन का शुभारम्भ वैदिक यज्ञ और ओझ्म् ध्वजारोहण से हुआ। वैदिक यज्ञ सभा मंत्री डॉ. व्यासनन्दन शास्त्री, पं. दीप नारायण शास्त्री, पं. अशोक कुमार शास्त्री और पं. विनोद कुमार शास्त्री के संयुक्तआर्यत्व से सम्पन्न हुआ। ओझ्म् घ्वजारोहण सार्वदेशिक आर्य प्रतिनिधि सभा प्रधान श्री सुरेश चन्द्र आर्य एवं बिहार राज्य आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रधान डॉ. संजीव चौरसिया (विधायक) ने संयुक्त रूप से किया जिसमें मेघालय के महामहिम राज्यपाल एवं सभा के मुख्य संरक्षक श्री गंगा प्रसाद जी व सार्वदेशिक सभा मंत्री  श्री प्रकाश आर्य सहित बिहार एवं नेपाल के सैकड़ों आर्य प्रतिनिधियों ने ओझ्म्  ध्वजगीत गाया।

सभी मान्य अतिथियों का पुष्पमालाओं व शॉल से सम्मानित किया गया। इसी क्रम में बिहार के उपदेशकों, भजनोपदेशकों, कर्मठ कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया गया। सभा मंत्री डॉ. शास्त्री के पूज्य पिताजी श्री पृथ्वी चन्द आर्य एवं डॉ. ऋचा योगमयी के पूज्य पिता जी श्री नरेन्द्र योगी जी को भी सम्मानित किया गया। महासम्मेलन के मुख्य अतिथि महामहिम राज्यपाल श्री गंगा प्रसाद ने पाखण्ड मुक्त, अन्धविश्वास मुक्त और महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए संकल्प लेने का आह्वान किया। उन्होंने महर्षि दयानन्द सरस्वती के बताए मार्ग पर चलने के लिए सामाजिक जागरूकता बढ़ाने की बात कही। साथ ही दिल्ली में 25 से 28 अक्टूबर 2018 को आयोजित हो रहे अन्तर्राष्ट्रीय आर्य महासम्मेलन में ज्यादा से ज्यादा संख्या में भाग लेने के लिए अपील की। सार्वदेशिक आर्य प्रतिनिधि सभा मंत्री श्री प्रकाश आर्य ने कहा कि मैंने 15 देशों की यात्राएं की हैं, सभी देशों में मुझे बिहारवाासी मिले, निःसन्देह बिहारवासी अपनी विद्वता, व्यवहार कुशलता, विनम्रता और कर्मठता के लिए गौरवान्वित हैं। एतदर्थ, बिहार के आर्यों के प्रति मेरी अपूर्व निष्ठा और श्रद्धा है। इससे सभागार करतल ध्वनि से गूंज उठा। उन्होंने आगे कहा कि हमारा धर्म सत्य सनातन वैदिक धर्म है और हम आर्य समाजी मूलतः सनातनी हैं, क्योंकि हमारा धर्मग्रन्थ वेद है जो सृष्टि के आदि में ही 1,96,08,53,119 वर्ष पूर्व मानवमात्र को ईश्वर ने ज्ञान दिया। इसके साथ ही उन्होंने ‘कृण्वन्तो विश्वमार्यम्’ के लिए कृण्वन्तो स्वयंआर्यम् की बात कही। इसकी शुरुआत प्रत्येक व्यक्ति अपने घर-परिवाार से करे तभी हमारी संतान भी आर्य समाजी होगी। श्री प्रकाश ने अन्तर्राष्ट्रीय आर्य महासम्मेलन- 2018 को ऐतिहासिक आर्य महासम्मेलन बताते हुए सम्मेलन सम्बन्धी व्यवस्थाओं का भी जिक्र किया। सार्वदेशिक सभा के मंत्री श्री प्रकाश आर्य जी ने अन्तर्राष्ट्रीय आर्य महासम्मेलन में आठ करोड़ रुपये खर्च होने की बात कही इस पर बिहार सभा मंत्री व्यासनन्दन शास्त्री और सभा प्रधान डॉ. संजीव आर्य (विधायक) ने 50 लाख रुपये के सहयोग की घोषणा की, साथ ही 20 हजार आर्य प्रतिधियों को दिल्ली आर्य महासम्मेलन में पहुंचें इस बात की पुष्टि करते हुए सभा प्रधान ने बताया कि इस हेतु बिहार में तैयारियों शुरू हो चुकी हैं। महासम्मेलन को सफल बनाने में प्रधान डॉ. संजीव आर्य, मंत्री डॉ. व्यास नन्दन शास्त्री, कोषाध्यक्ष श्री सत्यदेव प्रसाद गुप्त, श्री विद्याशरण प्रसाद, श्री संजय कुमार गुप्ता, श्री मनोज कुमार आर्य, सहमंत्री पुरषोत्तम कुमार, पं. विनोद कुमार शास्त्री आदि की प्रमुख भूमिका रही। - डॉ. व्यासनन्दन शास्त्री, मंत्री 

 

Shravani Evam Ved Prachar Parv

Meeting of Workers for Promotion of Conference in Kerala